bikaner sar samachar
Uncategorized

बीकानेर सार समाचार : रविवार, 16 दिसंबर 2018

विधायक सिद्धि कुमारी ने जीत के बाद गुरुद्वारे में मत्था टेक लिया आशीर्वाद

OmExpress News / Bikaner / सिक्खों के नवे गुरु तेग बहादुर जी का शहीदी गुरुपर्व आज आरसीपी कॉलोनी गुरुद्वारे में मनाया गया,इस अवसर पर बीकानेर पूर्व क्षेत्र विधायक सुश्री सिद्धि कुमारी ने गुरद्वारे में मत्था टेका व गुरुजनों से आशीर्वाद लिया,इस अवसर पर गुरद्वारा कमेटी द्वारा सिद्धि कुमारी को सरोपा भेंट कर सम्मान किया। Bikaner News

विधायक सिद्धि कुमारी ने गुरु तेग बहादुर जी को याद करते हुए विश्व इतिहास में धर्म एवं मानवीय मूल्यों, आदर्शों एवं सिद्धांत की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति देने वाले गुरु तेग़ बहादुर साहब द्वारा बताए गये मार्ग का अनुसरण करने की बात कही व वहाँ उपस्थित सभी बुजुर्गों,माताओं, बहनों,युवाओं, से वार्ड 45 में हर संभव कार्य विधायक कोटे से करवाने की बात कही।

इस अवसर भाजपा शहर जिला महामंत्री पाबूदान सिंह राठौड़,लालगढ़ मंडल के मधुसूदन शर्मा,विनोद करोल,नवीन पारीक,मनोज सिंह,महेंद्र पासी,सतनाम कौर के साथ गुरुद्वारे श्रद्धालु उपस्थित रहे। Bikaner News

 

 

पुष्करणा ओलम्पिक सावे की तैयारियों को लेकर रमक-झमक की बैठक आयोजित – Bikaner News

पुष्करणा ब्राह्मण समाज के ओलम्पिक सावे को लेकर रमक झमक की पहली बैठक बारहगुवाड़ स्थित कार्यालय में शनिवार देर शाम आयोजित हुई। बैठक में अगले वर्ष 21 फरवरी को होने वाले पुष्करणा ब्राह्मण समाज के ओलम्पिक सावे के दौरान रमक-झमक द्वारा की जाने वाली व्यवस्थाओं के संबंध में चर्चा की गई। Bikaner News

रमक-झमक के संयोजक प्रहलाद ओझा ‘भैंरू’ ने कहा कि ओलम्पिक सावा अपनी पूर्ण गरिमा और परम्पराओं के अनुसार हो तथा पुष्करणा ब्राह्मण समाज की संस्कृति बरकरार रहे, इस दिशा में संस्था सकारात्मक प्रयास करेगी। अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी सुनील बोड़ा ने कहा कि ओलम्पिक सावे के दौरान समाज की परम्पराओं का निर्वहन करने वाले बंधुओं को संस्था द्वारा प्रोत्साहित किया जाए।

उन्होंने कहा कि सावे के दौरान विवाह कम से कम खर्च में हो, इसके लिए वर-वधू पक्ष को जागरुक करने के प्रयास होने चाहिए। फुटबाॅलर भरत पुरोहित ने कहा कि हमारे पूर्वजों द्वारा स्थापित सावे के मूल स्वरूप को बनाए रखने की दिशा में भी मंथन होना चाहिए। जनसंपर्क अधिकारी हरि शंकर आचार्य ने कहा कि युवाओं को मितव्ययता की पहल करनी चाहिए तथा देखादेखी की होड़ में नहीं फंसते हुए न्यून खर्च में विवाह के समस्त संस्कारों का निर्वहन की ओर बढ़ना जरूरी है। शिवकुमार व्यास ने कहा कि पुष्करणा समाज का ओलम्पिक सावा पूरी दुनिया में अपनी विशेष पहचान रखता है।

इसकी व्यापकता को विशेष ध्यान रखा जाए। योगेश बिस्सा ने कहा कि संस्था द्वारा पिछले एक दशक से ओलम्पिक सावे के दौरान विशेष व्यवस्थाएं की जाती हैं। यह अनुकरणीय है। इस दौरान भवानी शंकर व्यास, आनंद मस्ताना, शिव छंगाणी, ए.के. चूरा, राजेश भादाणी, प्रहलाद व्यास ने भी विचार रखे। रमक-झमक के राधे ओझा ने बताया कि रमक-झमक द्वारा अगले दो महीनों तक विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन होगा। शीघ्र ही विभिन्न कार्यकर्ताओं को अलग-अलग दायित्व दिए जाएंगे।

राष्टंीय कवि चैपाल की 182 वीं कड़ी में कवियों ने लगाए चार चांद

स्वास्थ्य एवं साहित्स संगम के राष्टंीय कवि चैपाल की 182 वीं कड़ी रविवार 16.12.18 को सुबह भ्रमण पथ पंचवटी में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता जब्बार बिकाणवी, मुख्य अतिथि में वरिष्ठ साहित्यकार डाॅ. सत्यनारायण जोशी, विशिष्ट अतिथि संस्थापक, समाजसेवी कवि नेमचंद गहलोत, सरदार अली परिहार एवं श्रीमती रतनदेवी जोशी एवं दौसा से पधारे कृष्णचन्द्र सैनी मंच पर शोभायमान हुए।

कार्यक्रम का शुभारम्भ रामेश्वर द्वारकादास बाड़मेरा साधक ने ईश वन्दना ‘‘हे विधात हे ज्ञान दात, में च मेधा दियताम्’’ प्रार्थना से की। धनश्याम सिंह ने ‘‘हर पांच वर्ष बाद मतदान पर्व आता है’’ सामयिक चुनाव पर केन्द्रित रचना सुनाई। डा. प्रकाश वर्मा ने ‘‘आशा नहीं छोडेंगे विश्वास नहीं तोड़ेंगे’’ काव्य रचना प्रस्तुत की। राजकुमार ग्रोवर ने ‘‘जिस के सिर पर है मुकूट हिमालय का.. निज चरण पखारे महा सागर’’ उदगार व्यक्त किए। वली गौरी ने ‘‘मै को क्यूं तरजीह देते, क्यों भरते मय का प्याला’’ रचना सुनाकर व्यसन विरोध में रचना सुनाई।

किशननाथ ने ‘‘दारू थाने नमन करा.. घणो कमायो नाम’’ व्यसन के क्षति पर केन्द्रित रचना सुनाई। गजलकार शकील ने ‘‘देख कर मंजर उठ गए दिल के होशो हवास.. कारवां किसका लुटा…’’। वरिष्ठ साहित्यकार मनोहर चावला ने ‘‘प्रजातत्रं के मन्ज का तन्त्र समझ नहीं आता कहते है प्रजातंत्र सभी को आजादी दिलाता’’। इमरार हसन कादरी ने ‘‘मैने आज पत्थर की खानों में कहीं देखी थी दरारे’’ बेहतरीन रचना प्रस्तुत की…। अनिल भारद्वाज ने ‘‘चमकना चांद का, रंग लाल ले सूरज से नहीं देखा’’ गीता सुनाया। हास्य कवि बाबूलाल छंगाणी ने ‘‘आंख मीच अंधारो कर… भरे सीरे ने पंधारी कर’’ हास्य रचना सुनाई… संस्थापक व कवि नेमचंद गहलोत ने ‘‘आदमी के गुणों की कद्र होती है व हंस हंस कर बतलाओं सबने’’ लोकप्रिय गीत काव्य रचना प्रस्तुत की।

श्रीमती मधुरिमा सिंह ने ‘‘ऐ मंजिल के मुसाफिर लक्ष्य प्राप्ती के बिना तुम थक कर क्यूं बैठे’’। श्रीमती कृष्णा वर्मा ने ‘‘मां बेटी बहन और पत्नी सब का तुम सम्मान करो’’ मशहुर शायर कासिम बीकानेर ने ‘‘समझ जो अगर तुमही या फिर मैं ही समझ जाता, हमारे बीच में कोई कभी झगड़ा नहीं रहता’’ अपनी बेहतरीन रचना सुनाई। हास्य कवि गजलकार कैलाश टाक ने ‘‘ अमर बेल सी बढती हुई महंगाई को साजन तुम कैसे काटोगे’’ मंहगाई पर रचना सुनाई। महबूब अली ने ‘‘आया हुं देशनोक से बन के किसान पेड के नीचे’’।

तुलसीराम मोदी ने ‘‘बिखर गये मोती हसीन खिले गुलाब से… तुम्हारे चेहरे पर मुस्कान’’। फजल मोहम्मद ने ‘‘कैद से उसकी निकला चाहूं, कट गए पांव तो चलना चाहूं…’’। सिराजूदीन ने ‘‘आपी की उल्फत का ये नाम है सुबह हसीं सुनहरी शाम है..’’। जुगल पुरोहित ने ‘‘कवि चैपाल तो बेमिसाल है संगम है नित्य कवियों का’’ तथा डाॅ. सत्यनारायण जोशी का संक्षिप्त परिचय दिया। अजीत राज ने ‘‘ये सोना एक ज्वैलर्स के लिए सोना गोल्ड है’’ लधु रचना सुनाई।

लीलाधर सोनी ने ‘‘हे पतिदेव थे किता चोखा हो’’ हास्य रचना सुनाई। कृष्ण कुमार सैनी ने ‘‘शहीदों के चरणों में मेरे चारो धाम है’’ दोसा से पधारे सैनी ने राष्टंभक्ति कविता सुनाई विप्लव व्यास ने ‘‘सूनो… पता है ना तुम्हें… अग्निपरिक्षा के समय चुप रही थी सीता/जै जाणे तो आखर बाज’’। मोहनूदीन नाचीज ने ‘‘सूरज क़ी नजर आये, चांद नजर आये… मेरा महबूब लाखों में नजर आए’’। सरदार अली पड़िहार ने ‘‘चलता चल भाई तू चलता चल, सुख का जीवन जीता चल तू’’। महेश चुग ने ‘‘हकीकत हे जिंदगी… तो मुश्किल ही होगी, हर कदम पर कांटे राह पथरीली ही होगी’’।

हनुमन्त गौड़ नजीर ने ‘‘मेरे जज्बात की शायद थी उसे कद्र बड़ी’’ दार्शनिक रचना सुनाई। जब्बार बीकाणवी ने आज के कविवृन्द की रचनाओं पर समीक्षा प्रतिक्रिया की अभिव्यक्ति दी तथा साहित्य सन्देश भी दिए। रामेश्वर द्वाराकादास बाड़मेरा साधक ने राष्टंीय कवि चैपाल के संरक्षण मे तथा भ्रान्ति निस्तारण प्रति विचार व्यक्त किए। आज के कार्यक्रम में लगभग 60 कविवृन्द उपस्थित थे। संचालन हास्य कवि, गजलकार कैलाश टाक ने किया। Bikaner News

डूंगर काॅलेेज में कम्प्युटर प्रशिक्षण कार्यशाला सम्पन्न – Bikaner News

सम्भाग के सबसे बड़े राजकीय डूंगर महाविद्यालय में विगत दो माह से चल रही कम्प्युटर प्रशिक्षण कार्यशाला का समापन शनिवार को हुआ। प्राचार्य डाॅ. सतीश कौशिक ने बताया कि आयुक्तालय काॅलेज शिक्षा एवं माइक्रोसाॅफ्ट कम्पनी के मध्य हुए करार के तहत इस कार्यशाला का आयोजन किया गया। Bikaner News

डाॅ. कौशिक ने बताया कि एनआईआईटी नाम एजेन्सी द्वारा आठ अक्टुबर से प्रारम्भ हुई इस कार्यशाला के प्रारम्भिक चरण में तीन समूह में बीकानेर सम्भाग के विभिन्न महाविद्यालयों के कुल 65 संकाय सदस्यों तथा 13 समूहों में कुल 322 विद्यार्थियों को माइक्रोसाॅफ्ट कम्पनी द्वारा प्रशिक्षण प्रदान किया गया। कार्यशाला की नोडल अधिकारी डाॅ. स्मिता शर्मा ने बताया कि इस प्रशिक्षण के दौरान कम्प्युटर के विभिन्न प्रोग्रामों यथा एमएस आॅफिस के विभिन्न घटकों का बारीकी से अध्ययन कराया गया।

इस दौरान पावर पाॅइन्ट को विस्तार पूर्वक समझाया गया जो कि व्याख्यान तथा शोध पत्रों के प्रस्तुतिकरण के लिये अत्यन्त आवश्यक होते हैं। डाॅ. स्मिता ने बताया कि प्रत्येक प्रतिभागी समूह के प्रशिक्षण के अंत में सर्टिपोर्ट नामक परीक्षा एजेन्सी द्वारा एक आॅनलाईन परीक्षा ली गई जिसका परिणाम भी शत प्रतिशत रहा। मीडिया प्रभारी डाॅ. राजेन्द्र पुरोहित ने बताया कि इस कार्यशाला में विद्यार्थियों ने काफी रूचि दिखाई एवं भविष्य में भी इस प्रकार की कार्यशाला आयोजित करने का आग्रह किया।

कार्यशाला के दौरान प्राचार्य डाॅ. सतीश कौशिक, वरिष्ठ संकाय सदस्य डाॅ. रविन्द्र मंगल, डाॅ. जी.पी.सिंह, सहायक निदेशक डाॅ. दिग्विजय सिंह तथा पूर्व प्राचार्य डाॅ. बेला भनोत ने विभिन्न समूहों के प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्रों का वितरण किया।

जनजीवन के फ्लैक्ष का लोकार्पण

नर सेवा नारायण सेवा को समर्पित समिति जनजीवन कल्याण सेवा समिति के “सेवा के 38 साल बेमिसाल” कार्यक्रम के फ्लैक्ष का लोकार्पण समिति कार्यालय में करते हुए अध्यक्ष एन.डी.रंगा ने कहा कि 23 दिसम्बर, रविवार को दोपहर 3.00 बजे दम्माणी हैरिटेज, बाबा रामदेव पार्क के सामने, नत्थूसर गेट के बाहर 38 वां स्थापना दिवस मनाया जाएगा ।

महासचिव डॉ.एम.एल.व्यास ने बताया कि 23 दिसम्बर रविवार को सुबह 10.00 बजे से 1.00 बजे तक नि:शुल्क नेत्र जांच शिविर का आयोजन किया गया है । व्यास ने बताया कि जांच शिविर के पश्चात नगर की विभूतियों का सम्मान किया जाएगा, समिति के जनोपयोगी कार्यक्रमों की जानकारी एवं नये वर्ष में प्रारम्भ किए जाने वाले कार्यक्रमों की जानकारी दी जाएगी । उपाध्यक्ष डॉ.अजय जोशी ने बताया कि 431 वें निशुल्क जांच शिविर में अमेरिका एवं हैदराबाद से प्रशिक्षित नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ.नितिन कल्ला अपनी सेवाएं देंगे ।

अग्रिम रजिस्ट्रेशन के लिए जनजीवन कल्याण सेवा समिति के मोबाइल नम्बर 9829404476 पर सम्पर्क कर सकते हैं । फ्लैक्ष लोकार्पण में राजेन्द्र जोशी, डॉ.सुषमा बिस्सा, मधुरिमासिंह, सुमन औझा जोशी, राजाराम स्वर्णकार, प्रेमनारायण व्यास, ब्रजगोपाल जोशी, रामेश्वर बाडमेरा “साधक”, जुगल पुरोहित, घनश्यामसिंह भगतीराम पांडे आदि की साक्षी रही ।