Bikaner Rajasthan Slider कला एवं साहित्य

दिवंगत विभूतियों को दी सामूहिक श्रद्धांजलि

बीकानेर omexpress.in

प्रेरणा प्रतिष्ठान आचार्यों का चौक, शब्दरंग साहित्य एवं कला संस्थान और पर्यटन लेखक संघ के संयुक्त तत्वावधान में बीकानेर नगर की वर्ष 2018 में दिवंगत विभूतियों को सामूहिक श्रद्धांजलि अर्पित कर उनके कार्यों से नमन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए वरिष्ठ साहित्यकार लक्ष्मीनारायण रंगा ने कहा कि बहुत दुख होता है इन विभूतियों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए।

इन विभूतियों ने हमारे नगर के वैभव को बढाया है। मुख्य अतिथि जनार्दन कल्ला ने कहा कि स्मृति शेष नमन कार्यक्रम अपने आपमें एक ऐसा यादगार एवं अनुकरणीय कार्यक्रम है जिसके कारण दिवंगत विभूतियों को सामूहिक याद करते हुए श्रद्धांजलि दी जाती है। इसके लिए ये संस्थाएं धन्यवाद की पात्र है।

शिक्षाविद सत्यप्रकाश आचार्य ने कहा कि इस वर्ष हमने बहुत अच्छे नागरिकों को खो दिया है। इन विभूतियों ने हमारे शहर का मान बढाया है। अपने आपमें यह अनूठा कार्यक्रम है। विशिष्ठ अतिथि सखा संगम के अध्यक्ष एन.डी.रंगा ने दिवंगत विभूतियों को नमन करते हुए उनके जीवन से प्रेरणा लेने की बात कही।

प्रेरणा प्रतिष्ठान के संरक्षक सेवानिवृत अपर पुलिस अधीक्षक लालचन्द जोशी ने प्रेरणा प्रतिष्ठान के संस्थापक अध्यक्ष डॉ.राजनारायण व्यास एवं पर्यटन लेखक संघ के संस्थापक एडवोकेट उपध्यानचन्द्र कोचर को याद करते हुए कहा कि वर्ष 2007 से इनके द्वारा शुरु किया गया यह कार्यक्रम अपने आपमें एक अलग पहचान रखता है।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में वरिष्ठ साहित्यकार भवानीशंकर व्यास ‘विनोदÓ ने कार्यक्रम के बारे में विचार रखे। प्रेरणा के अध्यक्ष प्रेमनारायण व्यास ने इस कार्यक्रम की उपादेयता को प्रकट करते हुए बताया कि दिवंगत विभूतियों के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करना हमारा कर्तव्य है।

इस वर्ष दिवंगत विभूतियों में वरिष्ठ पत्रकार बजरंग शर्मा, शुभू पटवा, ललित आजाद, समाज सेवा एवं शिक्षविद शिवरतन थानवी, गौरीशंकर अग्रवाल, गोवर्धनलाल चौमाल, केदारनाथ आचार्य, मुरारीलाल शर्मा, जेठमल नाई, बाबुलाल ओझा, जसकरण आर्य, डॉ.भंवर स्वामी, भगवानदास हर्ष, जे.पी.शर्मा, जीवराज सोनी, शकीना बेगम, लक्ष्मीनारायण पांडिया, शिक्षक नेता श्रीनाथ व्यास, खुशालचन्द व्यास, साहित्यकार श्रीलाल जोशी, वाणी गायक रुपचन्द रंगा, समाजसेवी शंकरलाल हर्ष, फुटबॉलर टीकमचन्द स्वामी, जामा मस्जिद इमाम हाजी गुलाम मोहम्मद, अर्थशास्त्री विजयशंकर व्यास, बैंकिंग सेवा के प्रह्लाद व्यास, प्रकाशन के क्षेत्र से दिनेश रंगा, गायन से ओम सोनी, रतनदीप बिस्सा सहित नगर की दिवंगत विभूतियों का स्मरण करते हुए श्रद्धासुमन अर्पित किये गये।

दिवंगत मनीषियों के व्यक्तित्व कृतित्व पर हरीश बी.शर्मा, डॉ.प्रकाश आचार्य, इरशाद अजीज, जानकीनारायण श्रीमाली, विप्लव व्यास, डॉ.एम.एल.व्यास, डॉ.मुरारी शर्मा, डॉ.एस.एन.हर्ष, आत्माराम भाटी, राजेन्द्र जोशी, कमल रंगा, शिवनामसिंह, इसरार हसन कादरी, डॉ.हरिशंकर मारु, आशीष व्यास, योगेन्द्र दाधिच, डॉ.महेन्द्र व्यास, राजेन्द्र आचार्य, ओम कुबेरा, पवन सोनी, राजाराम स्वर्णकार, अरुण जोशी, कासिम बीकानेरी और महेश आर्य ने प्रकाश डाला। कार्यक्रम में दिवंगतों की स्मृति में दो मिनट का मौन रखा गया।

कवि-कथाकार राजाराम स्वर्णकार ने अपनी कविता के माध्यम से आगत का स्वागत करते हुए सभी के प्रति आभार माना। संचालन संजय आचार्य ने किया। कार्यक्रम में डॉ.सीताराम गोठवाल, मुरलीमनोहर माथुर, बी.एल.नवीन, एस.पी.पुरोहित, श्रीमती कमला कोचर, चन्द्रशेखर जोशी, प्रतीक दाधीच, डॉ.अभयसिंह टॉक, कैलाश टॉक, डॉ.बसंती हर्ष, दीपक व्यास, श्रीगोपाल स्वर्णकार, गौरीशंकर सोनी, रवि व्यास, मधुरिमासिंह, जुगलकिशोर पुरोहित, ऋषिकुमार अग्रवाल, संजय श्रीमाली, ममता भारद्वाज, सुदर्शन सोनी, कोमल सोनी, प्रतीक स्वामी, घंश्यामसिंह, रामेश्वर सोनी, अविनाश व्यास, सुनील मोदी, विमला, उमा पुरोहित, प्रेम हर्ष, ओंकार हर्ष सहित सभी ने दिवंगतों को पुष्पांजलि अर्पित की।