Ajmer Rajasthan

पुष्कर आज देशी-विदेशी पर्यटकों से हुआ गुलजार

न्यू ईयर पार्टियों से होटल-रिसोर्ट में पर्यटकों से आया बूम

पुष्कर(अनिल) तीर्थ व पर्यटक नगरी पुष्कर सोमवार यानी आज की रात नए साल के जश्न की धूम रहेंगी। न्यू ईयर के उपलक्ष में पुष्कर सहित आसपास के गाँवों में संचालित होटल,रिसोर्ट, व फ़ार्म हॉउस में म्यूजिक व डांस पार्टियां होगी। इनका लुफ्त उठाने के लिए देश-विदेश के कोने से देशी-विदेशी पर्यटक पुष्कर पहुंच रहे है। कुछ पर्यटकों ने एक माह पहले ही रूम बुक करवा लिया। सभी होटल-रिसोर्ट व फ़ार्म हॉउस फुल हो गए है। साथ रिसोर्ट,होटल,फ़ार्म हाउस के बाहर हाउस फुल के बोर्ड टंग गए। पुष्कर में नव वर्ष के स्वागत के लिए आयोजित होने वाली पार्टियां की तैयारियां युद्व स्तर पर चल रही है।होटलों व आस-पास के गाँवों में संचालित होने वाले रिसोर्टो में विशेष सजावट की जारी रही है। जिसमे टीवी कलाकार अभिनेता-अभिनेत्रिया व ्रहृक्रढ्ढभी पुष्कर के धोरों में रिसोर्ट नए साल का जश्न मनाने आए है। पर्यटकों व फिल्म कलाकारों का पुष्कर पंसदीदा शहर है।

जहां सोमवार की शाम 7 बजे से डिनर,म्यूजिक,व डांस पार्टियों की धूम शुरू हो जाएंगी।तथा रात 12 बजे आतिशबाजी के बीच नव वर्ष का गर्मजोशी के स्वागत किया जाएंगा। नव वर्ष का जश्न मनाने के लिए राजस्थान के साथ दिल्ली,हरियाणा,मुम्बई,हिमाचल,सहित मेट्रो शहरों के युवक-युवतियां के विदेशी मेहमान भी पुष्कर आ रहे है। सैलानियों व पर्यटकों को लुभाने के लिए व उनके मनोरंजन के लिए कई होटल संचालकों ने दिल्ली व मुम्बई से प्रसिद्व नृत्यांगनाए बुलाई है। वहीं कानून व्यवस्था बनाने के लिए पुलिस की और से कानून व शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए माकूल बंदोबस्त किए जाएंगे।पुलिस की नजर नशे व अवांछनीय गतिविधियों पर अंकुश पर रहेंगी। रिसोर्ट,होटल व फ़ार्म हाउस में प्रसिद्व नगारा वादन से नए साल का स्वागत होंगा


माहेश्वरी समाज की बैठक में हुआ हंगामा

तीर्थ नगरी पुष्कर में आज अखिल भारतीय माहेश्वरी समाज की साधारण सभा की बैठक आहूत की गई जिसमें अध्यक्ष जुगल किशोर ने विपक्ष को विश्वास में लिए बिना और उनकी अनुमति के बिना 8 प्रस्ताव को जबरदस्ती पास कर दिया जिसका विपक्ष ने जबरदस्त विरोध किया और हंगामा मचाना शुरू कर दिया पूर्व अध्यक्ष राम कुमार भूतड़ा ने बताया कि मनमाने तरीके से प्रस्ताव पास किए गए जो गलत है और इसका सभी सदस्यों ने आपत्ति प्रकट करते हुए इसका विरोध करने के बावजूद भी माने नहीं और जबरदस्ती प्रस्तावों पर मुहर लगा दी जिसके चलते बैठक हंगामे की भेंट चढ़ गई।
पारीक भवन में शुरू हुई कपड़ा एक्सपोर्ट्स की बैठक शुरू *पुष्कर में अलग से कपड़ा एक्सपोर्टस के लिए भूमि आवटन कर रीको एरिया जैसी प्रदूषण रहित भूमि दी जाए ताकि वँहा पर कपड़ा फैक्ट्रियां खोलकर लोगो को अधिक से अधिक रोजगार दे सके।बैठक में मोहनसिंह चौधरी लालचन्द खत्री मधुसूदन मालू हिम्मतसिंह कमलेश खत्री मांगीलाल चौधरी अशोक पाराशर सीताराम पण्डित दिलीप बाबू खत्री सोनू टांक चांदमल अग्रवाल सहित काफी संख्या में कपड़ा एक्सपोर्ट मौजूद है। बैठक में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की जा रही है।

अन्तराष्ट्रीय तीर्थस्थल पुष्कर का रेलवे स्टेशन आज भी विकास को तरसता

अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त तीर्थ स्थल पुष्कर को कांग्रेस की सरकार ने बड़े बड़े सपने दिखाकर 7 वर्ष पूर्व रेलवे स्टेशन की सौगात दी थी ।7 वर्ष पूर्व 23 जनवरी 2012 को इस रेलवे स्टेशन का उद्घाटन किया गया था और बड़े-बड़े सपने दिखाए गए की रेलवे स्टेशन बनने सेपुष्कर में पुष्कर के विकास को चार चांद लग जाएंगे और यात्रियों की भारी आवक होगी यही नहीं पुष्कर को शीघ्र ही मेड़ता रेलवे लाइन से जोड़ दिया जाएगा जिससे पुष्कर रेलवे स्टेशन को एक अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलेगी । लेकिन इसके बाद आज तक किसी ने इसकी सुध लेना मुनासिब नहीं समझा एकमात्र रेल सुबह आती है और शाम को चली जाती है यह रेल यात्रियों के लिए पिकनिक का साधन बन रखी है अजमेर से पुष्कर की दूरी रेल से 25 किलोमीटर है जो इस रेल में सवा घंटे में दूरी तय की जाती और किराया मात्र ?5 लगता है तो वहीं बस के द्वारा अजमेर की दूरी 12 किलोमीटर है और 12 रुपये किराया लगता है और समय मात्र 20 मिनट।

अगर किसी को पिकनिक बनानी हो या टाइम पास करना हो तो आराम से रेल का सफर करिए रेल में प्रतिदिन गिने-चुने यात्री आते जाते है वो भी जिनको ब्यावर मारवाड़ जंक्शन या जाना हो और वँहा से पुष्कर आना होता है तो स्टेशन मास्टर मुख्तार आलम ने बताया कि रेलवे स्टेशन पर प्रतिदिन गिने चुने लोग इस में सफर करते हैं तथा पूरा दिन रेलवे स्टेशन बिल्कुल सुनसान नजर आता है यहां पर पुष्कर के करीबन 90त्न लोगों ने कभी आज तक रेलवे स्टेशन की शक्ल तक नहीं देखी यही नहीं स्टेशन की सुरक्षा व्यवस्था के लिए आरपीएफ ने पांच पुलिसकर्मियों को तैनात कर रखा है जिसमें आरपीएफ के प्रभारी रामकरण गुर्जर ने बताया कि पूर्व में जब रेलवे स्टेशन का उद्घाटन हुआ तब आरपीएफ के पांच हेड कांस्टेबल 6 कांस्टेबल सहित 12 लोगों का स्टाफ था तो वहीं भाजपा की सरकार आती अब 2 हेंडकस्टेबल 2 ओर कास्टेबल लगा रखे हैं रेलवे स्टेशन पर असामाजिक तत्व आए दिन अपना जमावड़ा लगा रखे हैं जिनको बड़ी मुश्किल से हम वहां से भगाते हैं आए दिन असामाजिक तत्वों से झगड़ा भी हमारा होता रहता है यही नहीं 7 वर्षों में रेलवे स्टेशन की आजतक किसी ने सुध नही ली ।


पुष्कर में प्रतिदिन दूर दराज से देश विदेश से हजारो यात्री आते है अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त तीर्थ स्थल पुष्कर में प्रतिदिन हजारों देश विदेश दूरदराज से यात्री पुष्कर ब्रह्मा मंदिर के दर्शन के लिए और पुष्कर सरोवर की पूजा अर्चना के लिए आते हैं अगर पुष्कर को मेड़ता रेलवे लाइन से जोड़ दिया जाए और पुष्कर से हरिद्वार ऋषिकेश सहित अन्य तीर्थस्थलों से रेल के माध्यम से जोड़ दिया जाए तो यात्रियों को काफी फायदा होगा तथा पुष्कर में यात्रियों की आवक भी बढ़ेगी साथ ही साथ यात्रियों को काफी सुविधा भी होगी।
पुष्कर से हरिद्वार रेल चलाने की मांग पुष्कर से सीधी हरिद्वार रेल चलाने की मांग वर्षों से लोगो द्वारा की जा रही है तथा इसके लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार को विभिन्न संगठनों द्वारा ज्ञापन भी गया जा चुका है लेकिन आज तक किसी ने भी इस मांग पर ध्यान नही दिया और पुष्कर रेलवे स्टेशन को नजरअंदाज कर रखा है।
जर्जर अवस्था में भी होने लग गया है तथा करोड़ों रुपए की लागत से बना अब यह रेलवे स्टेशन जर्जर अवस्था में तब्दील होते जा रहा है जगह-जगह पत्थर गिर गए तो चारो तरफ गंदगी का आलम हो रखा है मधुमखियों के जगह जगह छाता हो रखे स्टाफ की कमी के कारण गंदगियों का ढेर लग रखें कर्मचारियों के लिए बने क्र्वाटर भी जर्जर हो गए । रेलवे स्टेशन के चारो तरफ कटीली झंडिया हो रखी है कुर्सियां टूट चुकी है कमरे खडर हो गए ।

वराह घाट चोक पर होगी कल भव्य भजन संन्ध्या

तीर्थ नगरी पुष्कर में कल भव्य भजन संध्या का आयोजन किया जाएगा।जंहा पूरे देश प्रदेश व पुष्कर में जहाँ एक ओर लोग नए साल पर मौज मस्ती करके जश्न मनायंगे वही धार्मिक नगरी पुष्कर के प्रधान वराह घाट चौक पर नव वर्ष 2019 की पूर्व संध्या पर बाबाजी की फ़ौज भजन मंडली द्वारा भजन संध्या का आयोजन किया जा रहा है।ओर सभी के लिए मंगल कामना की जाएगी । इस कार्यक्रम में सभी धर्म प्रेमी बंधुओं की उपस्थिति सादर प्रार्थनीय है। युवाओं की टोली ने बताया की इस दौरान वराह घाट चोक पर भव्य सजावट की जाएगी ।यह कार्यक्रम कल रात्रि 8.30 बजे शुरू होगा ।


जन कल्याण के लिए एक जनवरी को पुष्कर के सिद्धेश्वर बाला जी मे होगा संगीतमय पाठ

प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी एक जनवरी को पुष्कर सरोवर के किनारे स्थित यज्ञ घाट पर सिद्धेश्वर हनुमान मंदिर में सुंदरकांड का पाठ किया जाएगा। कार्यक्रम के प्रवक्ता पुरुषोत्तम पाराशर ने बताया कि गत 2 साल से श्याम मित्र मंडल द्वारा जनकल्याण विश्वकल्याण प्रत्येक व्यक्ति की मंगल कामना के लिए सिद्धेश्वर बालाजी के सामने संगीतमय पाठ किया जाता है । एक जनवरी को दोपहर 2:30 बजे शुरू किया जाएगा इसके बाद भव्य आरती की जाएगी इस दौरान पुष्कर की प्रसिद्ध संगीतकारो द्वारा अपनी-अपनी पेशकश दी जाएगी जिसमें पुष्कर के दिन दयाल पाराशर गिरी मेवाड़ा ,दिनेश पाराशर नरेंद्र पाराशर पुरुषोत्तम पाराशर ढोलक पर गौरव वैष्णव पेड(ऑक्टोपड) पर महेश और दीपक ऑर्गन अपनी संगत देंगे।

तीर्थ नगरी पुष्कर में नव वर्ष की पार्टी की तैयारियां शुरू

तीर्थ नगरी पुष्कर में प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी नववर्ष की पार्टी की तैयारियां विभिन्न होटलों रेसोर्ट और रेस्टोरेंट में शुरू हो गई है वही सीआई नरेश शर्मा ने बताया कि बिना अनुमति के नववर्ष की पार्टी करने वाले संचालकों के खिलाफ पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी नववर्ष की पार्टी को देखते हुए पुलिस ने अभी से अतिरिक्त जाब्ता तैनात कर दिया गया है तथा नववर्ष की पार्टी के दौरान ऐसा कोई भी आयोजन नहीं होने दिया जाएगा जिसके चलते तीर्थ नगरी की छवि धूमिल हो सीआई नरेश शर्मा ने बताया कि नव वर्ष की पार्टी की आड में अगर कोई भी संचालक पुष्कर की छवि खराब करने की कोशिश करेगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। हालांकि अभी तक नववर्ष की पार्टियों की किसी ने अनुमति नही ली है।

पुष्कर में सजने लगी पतंगों की दुकानें

्तीर्थ नगरी पुष्कर में शीतकालीन अवकाश के साथ ही पतंगबाजी शुरू हो गई तथा बाजारों में अभी से ही पतंगों की दुकानें सजने लग गई है तथा सर्दी को देखते हुए दिनभर युवाओं की टोलिया छतों पर पतंग उड़ाते नजर आ रही है पुष्कर में प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी मकर सक्रांति का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा जिसकी तैयारियां अभी से शुरू हो गई है।

तीर्थ नगरी पुष्कर में यात्रीयो की भारी भीड़

तीर्थ नगरी पुष्कर में शीतकालीन अवकाश के चलते यात्रियों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है तथा बाजारों में यात्रियों की भीड़ के चलते मेला जैसा माहौल हो रखा है शीतकालीन अवकाश के साथ ही पुष्कर में अब 15 दिनों तक यात्रियों की भारी आवक रहेगी तथा चारों तरफ चार पहिया वाहन नजर आ रहे हैं पुष्कर के घाटों बाजारों और मंदिरों में चारों तरफ यात्रियों की भारी भीड़ देखने को मिल रही है।

तीर्थ नगरी की यातायात व्यवस्था चरमराई भीड़भाड़ इलाको में घुस रहे है चार पहिये वाहन

तीर्थ नगरी पुष्कर में शीतकालीन अवकाश के चलते चार पहिये वाहनों की भारी आवाजाही के चलते कस्बे की यातायात व्यवस्था पूर्ण रूप से चरमरा रखी है कस्बे में पुलिस की माकूल व्यवस्था नही होने से चार पहिये वाहन कस्बे के भीड़भाड़ इलाको में भीड़ को चीरते हुए धड़ल्ले से निकल रहे है हालांकि पुलिस ने अतिरिक्त जाप्ता तैनात कर रखा है लेकिन भारी भीड़ ओर वाहनों की भारी आवाजाही के चलते पुलिस का अतिरिक्त जाप्ता भी कम नजर आ रहा है शीतकालीन अवकाश के कारण वाहनों की भारी आवाजाही के चलते तथा भारी भीड़ के बावजूद चार पहिये वाहनों की आवाजाही कस्बे में जारी है जिसके चलते बाज़ारो में भीड़ में वाहन फंस जाने से बार बार जाम लग रहे है भारी भीड़ के बावजूद पुलिस की माकूल व्यवस्था नही होने से चार पहिये वाहन कस्बे में घुस रहे थे भीड़भाड़ इलाको में इस दौरान यात्रियों का पैदल चलना भी दुश्वार हो गया।गुरुद्वारे से सूर्या चोक होली का चोक तरनी घाट के बाहर तो हालत ही खराब हो रखी है गुरुद्वारे के पास मारवाड़ बस स्टैंड के पास ओर बड़ी बस्ती श्मशान घाट के पास वाहनों की रोकथाम नही होने के कारण सभी वाहन बेधड़क कस्बे में घुस रहे है।

कपकपाती सर्दी धूजणी छुटी धुन्ध ओर ओस के कारण बढ़ी सर्दी

तीर्थ नगरी पुष्कर में अब धीरे धीरे सर्दी ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है सुबह शाम लोगों को जमकर ठंड का सामना करना पड़ रहा ह सर्दी से बचने के लिए लोग अलाव का सहारा ले रहे है सुबह शाम सर्दी के चलते पुष्कर के बाजारों में भी रौनक कम दिखाई दे रही है लोग सर्दी से बचने के लिए अलाव ओर गर्म कपड़ो का सहारा ले रहे है सर्दी के चलते पुष्कर के बाजार सुबह देरी से खुलने शुरू हो गए तो शाम को जल्दी बन्द होने लग गए सर्दी के कारण सुबह शाम यात्रियों की चहल पहल कम दिखाई देने लग गई है।आज धुंध ओर ओस के कारण काफी ठंड महसूस की गई और लोग आज ठंड के कारण सूर्य उदय नही होने तक घरो में दुबके रहे तो अलाव का सहारा भी लेते नजर आए।(PB)