National Rohtak Slider

हजारों साईकल सवारों ने दिया पर्यावरण व सडक़ सुरक्षा का संदेश

रोहतक(अनूप कुमार सैनी)। सड़क सुरक्षा व पर्यावरण को सुरक्षित बनाने के लिए उपायुक्त डॉ. यश गर्ग के आदेशानुसार क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण, रोहतक द्वारा आज शहार में साइक्लोथोंन (साइकिल रेस) का आयोजन किया गया। सड़क सुरक्षा का सन्देश लिए इस रेस में हजारों छात्र-छात्राओं, महिलाओं और बुजुर्गों ने बड़े जोश और उत्साह के साथ हिस्सा लिया।
इस रेस को उपायुक्त डॉ. यश गर्ग व पुलिस अधीक्षक जश्नदीप सिंह रंधावा ने पुलिस लाइन मैदान से सुबह 7:45 पर झंडी दिखा कर रवाना किया। साईकिल रेस पुलिस लाइन मैदान से विभिन्न वर्गों में शुरू होकर अलग- अलग चिन्हित किए गए स्थानों पर संपन्न हुयी। रेस के अंत में विभिन्न वर्गों के विजेता प्रतिभागियों और हिस्सा लेने वाले प्रतिभागियों को कार्यक्रम के मुख्यातिथि परिवहन विभाग के एसीएस धनपत सिंह ने बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय के प्रांगन में आयोजित एक समारोह में सम्मानित किया।


एसीएस धनपत सिंह ने इस मौके पर जिला प्रशासन, रोहतक पुलिस, एलपीएस बोसार्ड व हरियाणा विजन जीरो ग्रुप के इस साइकिल रेस में अहम योगदान और इस सफल आयोजन के लिए बधाई देते हुए कहा कि जिस तरह मेहनत और जज्बे के साथ प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया है, उसके लिए सभी विजेता, प्रतिभागी, अभिभावक और शहरवासी बधाई के पात्र हैं।उन्होंने कहा कि जीवन एक अमूल्य धरोहर है और इसे सही, स्वस्थ और सुरक्षात्मक तरीके से जीना आवश्यक है। और इस प्रकार के आयोजन से इसके सभी मतलब सार्थक सिद्ध होते दिखाई देते हैं। अमूमन हम सडक़ सुरक्षा को हल्के में लेते हैं और दुर्घटना हो जाने के बाद सोचा जाता है कि अगर सुरक्षा उपाय किए होते तो दुर्घटना नहीं होती। इसलिए हमें अपनी सोच को बदलते हुए दुर्घटना पूर्व इसके सुरक्षा उपायों के बारे में ध्यान देने की आवश्यकता है ताकि हम अपने और अन्य किसी को संभावित दुर्घटना से बचा सकें।


उनका कहना था कि इसके लिए सबसे पहले जरुरी है दोपहिया वाहन चालक हेलमेट अवश्य पहने और कार अथवा अन्य भारी वाहन चालक सीट बेल्ट का इस्तेमाल करें। उन्होंने कहा कि हर वाहन चालक अपने वाहन पर रेडियम टेप अवश्य लगवाए ताकि रात्रि में सामने से आने वाहन को रिफ्लेक्टर दिखाई दे और संभावित दुर्घटना से बचा जा सके।
उपायुक्त डॉ. यश गर्ग ने इस मौके पर युवाओं का आह्वान करते हुए कहा कि आज भारत को युवाओं का देश कहा जाता है और इस नाते सड़क सुरक्षा के इस सार्थक अभियान को आगे बढ़ाने का जिम्मा उन्हें अपने युवा कन्धों पर लेना होगा। आप सबको इसे एक जिम्मेदारी मानते हुए आपके संपर्क में हर समय रहने वाले लोगों को इसके लिए प्रेरणा बनकर दिखाना होगा ताकि दुर्घटनाओं में कमी लाई जा सके।
आपातकालीन स्थिति के लिए किया गया था एम्बुलेंस का विशेष प्रबंध
साइकिल रेस के दौरान प्रतिभागियों को चोट लगने की स्थिति में स्वास्थ्य विभाग द्वारा विशेष एम्बुलेंस व चिकित्सक दल का प्रबंध किया गया था, जो किसी भी आपात स्थिति के लिए साजो सामान के साथ प्रतिभागियों के साथ निर्धारित किए गए रूट पर रहे।


साइकिल रेस के दौरान युवाओं में उस वक्त जोश भर गया जब अनेक 60 साल की आयु पार कर चुके अनेक वरिष्ठ नागरिक हेलमेट पहने हुए साइकिल पर निकले और विशेष बात रही कि सभी ने अलग-अलग दूरी की रेस को समय रहते पूरा किया। करीब एक दर्जन बुजुर्गों ने तो 40 किलोमीटर की दूरी वाली रेस को समय रहते पूरा करते हुए युवा वर्ग को जीवन में कभी हार न मानने का सन्देश दिया। रेस में भाग लेने वाले सभी वरिष्ठ नागरिकों को एसीएस धनपत सिंह ने मंच से मैडल और उपहार देकर सम्मानित किया।
ये रहे प्रतियोगिता के लिए नियम
सभी प्रतिभागियों के लिए 10, 20 व 40 किलोमीटर रेस हेतु अलग अलग गन्तव्य निर्धारित किए गए थे और सभी को शुरू से आखिर तक रेस में शामिल होना अनिवार्य था। सभी वर्गों में हिस्सा लेने वालों को अलग अलग समय अनुसार पुलिस लाइन से उपायुक्त डॉ. यश गर्ग द्वारा झंडी दिखाकर रवाना किया गया।
प्रतिभागियों को विजेता पॉइंट पर पहुंचने से पहले आयोजकों द्वारा खड़े किये गए वालंटियरों के माध्यम से अपने हाथ पर चिन्ह अंकित करवाने जरुरी थे ताकि धांधली की गुंजाइश न के बराबर हो और पारदर्शिता बनाये रखते हुए सही विजेता का चुनाव हो पाए।


10, 20 और 40 किलोमीटर की रेस में ये रहे विजेता
– 10 किलोमीटर (पुरुष व महिला वर्ग ) में हर्शल राठी प्रथम, मुकुल दूसरे स्थान पर और कृष तीसरे स्थान पर रहे।
– 20 किलोमीटर (पुरुष) में हर्ष गहलावत प्रथम स्थान पर, कपिल जांगड़ा दूसरे स्थान पर और तीसरे स्थान पर मोहित कुमार रहे।
– 20 किलोमीटर (महिला वर्ग ) में जाह्नवी सिंह प्रथम स्थान पर, अनुष्का दूसरे स्थान पर व शिखा ने तीसरा स्थान प्राप्त किया।
– 40 किलोमीटर (पुरुष वर्ग) पवन कुमार प्रथम स्थान पर, दूसरे स्थान पर साहिल कुमार व तीसरे स्थान पर चमन कुमार तीसरे स्थान पर रहे।
– 40 किलोमीटर (महिला वर्ग ) नेहा प्रथम स्थान पर, स्वीटी मलिक दूसरे स्थान पर व सोनिया तनेजा ने तीसरा स्थान हासिल किया।
सभी विजेता प्रतिभागियों को मुख्यातिथि एसीएस धनपत सिंह व मुख्य आयोजक उपायुक्त डॉ. यश गर्ग ने क्रमश : 11000, 7100 व 5100 रूपये का नकद पुरूस्कार, मैडल तथा प्रशस्ति पत्र भेंट किये। इस मौके पर सभी प्रतिभागियों के लिए खाने पीने की व्यवस्था भी की गयी थी।
इस मौके पर उपायुक्त डॉ. यश गर्ग, एसीयूटी विश्राम मीणा, डीएसपी पृथ्वी सिंह, मस्तनाथ विश्वविद्यालय के उप कुलपति आर एस पांडे, रजिस्ट्रार डॉ. विनोद कुमार, समाज सेवी व एलपीएस बोसार्ड के महाप्रबंधक राजेश जैन, निदेशक एसपी शर्मा , सहायक सचिव आरटीए ओपी मोर, सतबीर फौगाट, रोड़ सेफ्टी एसोसिएट अंकित सांगवान व सुभाष गुप्ता व अशोक गुलिया सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।